Rediff.com  » Movies » अर्जुन पटियाला रीव्यू

अर्जुन पटियाला रीव्यू

July 27, 2019 22:27 IST

अर्जुन पटियाला  को जिस तरह का स्पूफ़ बनाने की कोशिश की गयी है, वैसी यह बन नहीं पाई है, प्रसन्ना डी ज़ोरे ने शिकायत की।

दिलजीत दोसांझ, कृति सैनन, वरुण शर्मा, रॉनित रॉय, मुहम्मद ज़ीशान अय्यूब और सीमा पाहवा मज़ाकिया अर्जुन पटियाला  में काफी मनोरंजक हैं, लेकिन फिल्म में उतना दम नहीं है।

स्क्रीन पर ऐक्टर्स के अच्छे परफॉर्मेंस के बावजूद अर्जुन पटियाला  दर्शकों को निराश करती है, क्योंकि कहानी बिना किसी थीम के चलती जाती है।

डायरेक्टर रोहित जुगराज के जेनेरेशन Z अंदाज़ ने कुछ हद तक फिल्म को बचाया है, क्योंकि निकल कर आते इमोटिकॉन्स, फ़्लैशबैक की जगह एनिमेटेड ग्राफिक्स से कहानी कहना, दोसांझ की आत्मा का एक मरे हुए किरदार से बात करना कुछ नया लगता है...

दर्शक इस प्रकार के और टेक ट्रिक्स फिल्मों में देखना चाहेंगे, जो कहानी कहने के एक नये अंदाज़ का प्रतीक हैं।

दोसांझ ने फिल्म के शीर्षक के अर्जुन पटियाला का किरदार निभाया है, जो एक जूडो चैम्प और विचित्र परिवार वाले एक विचित्र पुलिसकर्मी हैं। उन्होंने फ़िरोज़पुर ज़िले को सभी अपराधों से मुक्त करने और सभी अपराधियों को एक-दूसरे से लड़ाने के अपने गुरू (डीसपी गिल के किरदार में रॉनित रॉय) के वचन को पूरा करने की ज़िम्मेदारी अपने कंधों पर ले ली है।

अर्जुन की मदद उनके साथी ओनिड्डा सिंह (हाँ उनका नाम ओनिड्डा ही है, यह कोई टाइपो नहीं है) यानि कि वरुण शर्मा करते हैं, और ये दोनों किरदार फ़िरोज़पुर के गुंडा राज के ख़िलाफ़ रणनीति बनाते स्क्रीन पर सबसे ज़्यादा दिखाई देते हैं।

अर्जुन को प्यार हो जाता है एक साहसी क्राइम रिपोर्टर ऋतु रंधावा (कृति सैनन) से, जो 'झूठी मुठभेड़ हत्या है' की अपनी कहानी से अर्जुन के काम में टांग अड़ाती हैं।

दिलजीत फिल्म में सचमुच आपका दिल जीत लेते हैं।

कृति साड़ी में मैं हूं ना की सुष्मिता सेन जितनी ही ख़ूबसूरत लगती हैं।

वरुण ने साथी किरदार को बख़ूबी निभाया है।

रॉनित रॉय, मुहम्मद ज़ीशान अय्यूब और सुमन पाहवा ने ज़बर्दस्त काम किया है!

लेकिन रितेश शाह और संदीप लेज़ेल की घिसी-पिटी कहानी इन सभी किरदारों को ले डूबी है।

फिल्म डायरेक्टर्स, प्रॉड्यूसर्स, रिपोर्टर्स, पुलिसवालों और राजनेताओं, सभी पर व्यंग्य कसने की कोशिश करने वाली अर्जुन पटियाला  को जिस तरह का स्पूफ़ बनाने की कोशिश की गयी है, वैसी यह बन नहीं पाई है।

 

Rediff Rating:

Are you a Movie buff?

Get notified as soon as our Movie Reviews are out!
प्रसन्ना डी ज़ोरे
Related News: 1
SHARE THIS STORYCOMMENT