Rediff.com
Print this article

भारत में पर्यटकों के लिये सबसे सुविधाजनक रेलवे स्टेशन!

November 04, 2019 15:29 IST

विशाखापटनम रेलवे स्टेशन को पिछले महीने भारत में पर्यटकों के लिये सबसे अनुकूल ट्रेन स्टेशन की उपाधि दी गयी।

आइये यात्रियों के लिये अनुकूल इस स्टेशन पर एक नज़र डालें!

लेखिका: अर्चना मसीह/रिडिफ़.कॉम

On World Tourism Day last month, Visakhapatnam in Andhra Pradesh was awarded the most tourist friendly railway station in India by the central government. A man waits outside the entrance with a mural on the station wall behind him. Photographs: Rediff.com 

फोटो: पिछले महीने विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर, आंध्र प्रदेश के विशाखापटनम को केंद्र सरकार द्वारा भारत में पर्यटकों के लिये सबसे ज़्यादा अनुकूल स्टेशन घोषित किया गया।

प्रवेश द्वार के बाहर इंतज़ार करता एक आदमी, जिसके पीछे स्टेशन की दीवार पर चित्रकारी की गयी है। फोटोग्राफ: रिडिफ़.कॉम

 

The entrance to the station is devoid of the usual traffic jams and haphazard parking that is a common feature outside railway stations. In 2017, Visakhapatnam was declared as the cleanest station in India. 70,000 passengers and 120 trains pass through the station every day.

फोटो: स्टेशन का प्रवेश द्वार ट्रैफ़िक जाम और ग़लत पार्किंग से मुक्त है, जो रेलवे स्टेशनों के बाहर दिखने वाली आम समस्याएँ हैं।

2017 में, विशाखापटनम को भारत का सबसे स्वच्छ स्टेशन घोषित किया गया था। इस स्टेशन से रोज़ 70,000 यात्री और 120 ट्रेनें गुज़रती हैं।

A giant fan, which costs around Rs 4 lakh and can be seen at airports and some suburban railway stations in Mumbai, keeps passengers cool in the waiting area of the station. Messages inform passengers about amenities provided at the station. The station has AC, Non AC and executive waiting rooms and shower facilities. 

फोटो: स्टेशन के प्रतीक्षा क्षेत्र में लगा लगभग 4 लाख रुपये का विशाल पंखा यात्रियों को गर्मी से राहत देता है, आमतौर पर इस तरह के पंखे एयरपोर्ट और मुंबई के कुछ उपनगरीय क्षेत्रों में देखे जाते हैं।

स्टेशन पर उपलब्ध सुविधाओं के विषय में यात्रियों के संदेश। स्टेशन में एसी, नॉन एसी और इक्ज़ेक्युटिव प्रतीक्षा कक्ष हैं और स्नान की सुविधा है।

A food court provides meals, tiffin, snacks, tea and coffee. A cup of tea in an Indian Railways paper cup is a must! The station has a kids corner selling toys, a pharmacy, sanitary towel dispensing machine and a gaming zone.

फोटो: एक फूड कोर्ट में खाने, टिफ़िन, नाश्ते, चाय और कॉफ़ी की व्यवस्था है। इंडियन रेलवेज़ के पेपर कप में एक चाय पीना तो बनता है! स्टेशन के भीतर बच्चों के खिलौने बेचने वाला एक किड्स कॉर्नर, फार्मसी, सैनिटरी टॉवेल डिस्पेंसिंग मशीन और एक गेमिंग ज़ोन है।

Messages against the use of plastic with attractive colours are pasted on the platform. Particularly one, saying no carry bag but carry-a-bag. The station also has mechanised equipment for cleaning and disposing waste. It has bio-degradable and non-biodegradable dustbins.

फोटो: प्लैटफॉर्म पर प्लास्टिक का विरोध करने वाले संदेश आकर्षक रंगों में लगाये गये हैं। ख़ास तौर एक पोस्टर कहता है कि कैरी बैग न मांगें, बल्कि बैग कैरी करें।

स्टेशन पर कूड़े की सफ़ाई और फेंकने के लिये यांत्रिक उपकरणों की व्यवस्था है। यहाँ बायो-डीग्रेडेबल (जैव विघटनशील) और नॉन-बायोडीग्रेडेबल (ग़ैर-जैव विघटनशील) कूड़ेदान हैं।

What is more striking than the tourist friendly badge is how clean the station is and not overflowing with passengers. A woman in gloves and a uniformed housecoat empties the bins. The station has been lauded for its solid waste methods.

फोटो: टूरिस्ट फ्रेंडली बैज से भी ज़्यादा आकर्षक बात है स्टेशन की सफ़ाई और कम भीड़।

ग्लव्स और हाउसकोट की अपनी वर्दी में एक महिला कूड़ेदान को खाली कर रही है। स्टेशन को ठोस कूड़े के प्रबंधन के उपायों के लिये सराहा गया है।

That morning trainee station managers dressed in white uniforms had come to the station from different parts of India as part of their orientation and training. There is a lot they can learn from this station for sure!

फोटो: उस सुबह सफ़ेद वर्दी पहने ट्रेनी स्टेशन मैनेजर्स भारत के अलग-अलग हिस्सों से मार्गदर्शन और प्रक्षिक्षण के लिये आये थे। इस स्टेशन से ज़रूर उन्हें कई बातें सीखने को मिलेंगी।

अर्चना मसीह